Sunday, June 19, 2011

तुम्हारे वरद-हस्त

तुम्हारे वरद-हस्त 


(डॉ.)  कविता वाचक्नवी

(अपने संकलन "मैं चल तो दूँ" (२००५) से )





मेरे पिता !
एक दिन
झुलस गए थे तुम्हारे वरद-हस्त,
पिघल गई बोटी-बोटी उँगलियों की।

देखी थी छटपटाहट
सुने थे आर्त्तनाद,
फिर देखा चितकबरे फूलों का खिलना,
साथ-साथ
तुम्हें धधकते
किसी अनजान ज्वाल में
झुलसते
मुरझाते,

नहीं समझी
बुझे घावों में
झुलसता
तुम्हारा अन्तर्मन

आज लगा...
बुझी आग भी
सुलगती
सुलगती है
सुलगती रहती है।



Related Posts with Thumbnails

Followers