Sunday, October 24, 2010

विदा


विदा
(अपने संकलन - ‘मैं चल तो दूँ’ से )
(डॉ.) कविता वाचक्नवी

 
Bride taking the rice to throw back.



This is done three times.


                   आज दादी, चाचियों, बहना, बुआ ने
                   चावलों से, धान से,
                   भर थाल
                   मेरे सामने ला
                   कर दिया है,
                   `मुठ्ठियाँ भर कर
                   जरा कुछ जोर से
                   पीछे बिखेरो
                   और, पीछे मुड़, प्रिये पुत्री !
                   नहीं देखो',
                   पिता बोले, अलक्षित।
   

                   बाँह ऊपर को उठा दोनों
                   रची मेहंदी हथेली से
                   हाथ भर - भर दूर तक
                   छिटका दिया है
                   कुछ चचेरे औ’ ममेरे वीर मेरे
                   झोलियों में भर रहे
                   वे धान-दाने
  
                   भीड़ में कुहराम, आँसू , सिसकियाँ हैं
                  
                   आँसुओं से पाग कर
                   छितरा दिए दाने पिता!
                   आँगन तुम्हारे
                   रोपना मत
                   सौंप कर
                   मैं जा रही हूँ.......।
               ***
Page copy protected against web site content infringement by Copyscape
 
Related Posts with Thumbnails

Followers