Tuesday, December 13, 2011

दौड़ में शामिल लोग...

 दौड़ 
(डॉ.) कविता वाचक्नवी

(कविता का पहला ड्राफ्ट ) 





दौड़ में शामिल लोग
चौकन्ने होते हैं
संबंध बनाने में,
विजेता कहलाए जाने के लिए
स्थापित विजेताओं के प्रति विनम्र होने में,
सुर्खियों में रहने के लिए
प्रचारक तंत्र के प्रति
और
विजेता घोषित करने वाले निर्णायकों के साथ भी;


दौड़ते हैं बार बार
उसी दौड़ पट्टी पर
जहाँ हर बार
अधिक बार
जीतने की संभावनाएँ प्रबलतर हों
दौड़ में पछाड़ सकने वाले से
पिछड़ जाने के खतरों के प्रति
सावधान लोग
दौड़ के प्रतिद्वंद्वियों से
हरदम सचेत रह कर
बौना करने की जुगत रचाते
थकते नहीं कभी
और दौड़ते रहते हैं
दौड़पट्टी की गोलाकार अंतहीन चौहद्दियों में
पस्त हो जाने की हद तक
विजेता घोषित होने तक
या फिर
पराजित हो जाने के
परिणामों के बाद तक .....


वे नहीं जानते
पिछड़ना खूबसूरत हो सकता है
या दौड़ से बाहर रहना भी कला ;
यह दौड़ जो बाहर है
हर बार विजेता बदल जाते हैं इसमें ,
खिलाड़ी रोज नए आते हैं
और
वह दौड़ जो भीतर है
वह है सर्वदा
अंतहीन
नितांत अकेले हो जाने तक
अपने अंत तक
अर्वाचीन !!


--------------------------------------


Related Posts with Thumbnails

Followers