Thursday, May 30, 2013

मञ्जरी और हंस : लन्दन आज

मञ्जरी और हंस : लन्दन आज / कविता वाचक्नवी


अपने नियमित टहलने के कार्यक्रम पर जब आज प्रातः निकली तो पाया कि रात में वृक्ष से गिरी मंजरी ने रास्ते को बहुत ही कलात्मकता से ढाँप रखा है।

जहाँ मैं बीच में बैठ जाया करती हूँ, आज वहाँ कुछ बच्चे खेल रहे थे; परन्तु रोचक बात यह कि राजहंसों के जोड़े का एक हंस (जो लगभग प्रतिदिन अपने परिवार सहित वहीं जलधार या उसके किनारे पर खेलने आ जाते हैं) आज अकेले ही मैदान में देर तक बैठा हुआ था। मैंने उसकी इस भंगिमा के कुछ चित्र भी लिए। आज की सुबह मेरे लिए इस तरह बहुत स्निग्ध व विशेष बन गई।

भारत में तो हंस केवल संस्कृत साहित्य में नाम ही के रूप में जाना था और हिन्दी में एक कहावत-भर के रूप में, परंतु जब पहली बार यहाँ ब्रिटेन में हंस देखा तो मानो स्वर्ग की अनुभूति हुई थी। अब बाद में तब से तो बीसियों हंस एक साथ देखती चली आ रही हूँ। हंसिनी द्वारा छोटे छोटे बालहंसों को अपने पंखों के भीतर भर कर सुरक्षा देने व हंस हंसिनी द्वारा बच्चों को घेर कर तैरने के कई दृश्य कैमरे में कैद किए। अब तो नियमित क्रम है। :)

आज सुबह के मेरी आँखों और मेरे कैमरा में बंद वे अपार सुरमय दृश्य यहाँ इन चित्रों में हैं। 

 
© सभी चित्रों का स्वत्वाधिकार सुरक्षित है, बिना अनुमति प्रयोग न करें -










Related Posts with Thumbnails

Followers