Friday, September 21, 2012

`कविता' के बहाने



वर्ष 1995 /1996 की अवधि में एक बहुत लंबी, गेय व छंदोबद्ध कविता लिखी थी, जिसमें लगभग 50 पद हैं। उसे कभी एक साहित्यिक पत्रिका "पूर्णकुम्भ" (वस्तुतः साहित्यिक जर्नल) ने 1998/1999 में अपने चार बड़े पन्नों पर बहुत स्नेह से प्रकाशित किया था। 


उस कविता का शैली-वैज्ञानिक प्रविधि से विखंडन करने वाले आलोचक / पाठक स्पष्ट देख सकते हैं कि उसमें हिन्दी कविता की अंतर्यात्रा (आदि से लेकर तत्कालीन तक) व इतिहास को समेटने का यत्न तथा क्रमशः गेयता व छंद की समाप्ति को विषय बनाया गया है। उस कविता का शीर्षक था / है  - "कविता की आत्मकथा"। 


संयोग से अपना नाम भी कविता होने के कारण वह प्रकाशित कविता मेरे पास तब से फाईल में बंद पड़ी है; क्योंकि कुछ लोग मेरा नाम कविता होने के कारण उसे मेरी आत्मकथा समझने के कयास लगाते रहे। यह दंड उस कविता को भोगना पड़ेगा, इस चिंता से कभी उस कविता को फिर जगजाहिर ही नहीं किया। 


अब जब मेरी किसी कविता (मेरे चित्र के साथ प्रकाशित) पर कुछ लोगों की असपष्ट-सी या मात्र वाह-वाह नुमा टिप्पणी आती हैं तो यही स्थिति होती है। 


रचना पर टिप्पणी करते समय लोग रचना पर ही केन्द्रित क्यों नहीं रहते ? क्यों रचनाकार की (या चित्र की ) प्रशंसा करने में जुट जाते हैं ?


क्या मेरी कविताओं को मेरे नाम का ऐसा खामियाजा भोगना उचित है? अपनी एक महत्वपूर्ण कविता तो इसी चक्कर में बंद कर पहले सहेज ही दी है। अपने मित्रों से, मुझे इस दुविधा में न डालने का, आग्रह करती हूँ।

Like · · Unfollow post · Share
  • Pankaj Mishra pranam mam...
    14 hours ago · Unlike · 1
  • Anirudh Umat ji sahi kaha aapne.

    ye hamare alpvayask man or buddhi ka parichayak h. hum ab bhi kalaa 
    me bahut roodhivadi h.

    14 hours ago via mobile · Unlike · 1
  • DrKavita Vachaknavee Anirudh Umat जी,  सही कहा। महिलाओं के संदर्भ में
     तो स्थिति और भी दूभर हो जाती है कई बार।

    14 hours ago · Like · 1
  • Chandra Gurung रचना पर टिप्पणी करते समय लोग रचना पर ही 
    केन्द्रित क्यों नहीं रहते ? क्यों रचनाकार की (या चित्र की ) प्रशंसा करने में जुट जाते हैं ?

    specially, it is true in case of lady writers...

    14 hours ago · Unlike · 2
  • Deepak Kumar Misra जारी है---------------------------लव जिहाद के खिलाफ एक अभियान------------------------------------पसलियों को तोड़ के भर दिया प्यार मीठा मीठा / बेगम को मिल 
    गया काफिर अपने मिजाज का.
    14 hours ago · Unlike · 2
  • Anirudh Umat kayee baar? aap lihaaj kar rahi h kavitaji.

    mera to manna h ki aqsar hi bahut nimn star samne aata h. hamare bheetr ka 
    mail or kuntha koi aadhunikta ka mukhota chupa nahi sakta. hum pakhandi h...
    ye nagn satya h.

    14 hours ago via mobile · Unlike · 2
  • DrKavita Vachaknavee जी, Chandra Gurung जी। यही पीड़ा मैंने उमट जी 
    को संबोधित टिप्पणी में कही है कि महिलाओं के संदर्भ में तो स्थिति 
    और भी दूभर हो जाती है कई बार"

    14 hours ago · Like · 1
  • DrKavita Vachaknavee Anirudh Umat जी, आपने ठीक फरमाया। मैं इतने कड़े 
    शब्दों में नहीं कह पाई बस ।
    14 hours ago · Like · 1
  • Sarika Thakur DrKavita Vachaknavee jee ... Jo hamari mitra suchi 
    me hain ..wh kavita ki kitni samajh rakhte hain yah bhee vicharneeya
     hai...kuchh log u hee add kr lete hain ...isi tarah u hee comment
     bhee chaspa ho jate hain...unki ruchi kavita me hoti hi nahi hai..
    14 hours ago · Unlike · 1
  • DrKavita Vachaknavee निस्संदेह
  • Anirudh Umat aap mat kahiye...
    jiski deh me ye mawaad bhara h..vh kaise anjan rh sakta h? m 
    usi mard samaaj ka hissa hu jo hr pal apne purusatv ki aad me apna
     amanviya roop nikharta rahta h. khas kr hamare samaaj me pashu 
    se jyada hinsak. 
  • DrKavita Vachaknavee इस सदाशयता के लिए आभारी हूँ।
  • Sarika Thakur Saafgoee kee tareef karungi lekin pata nahi kyon bahut
     se batain umadne lageen hai ...lekhan swaym me stree-purush
     nahi hota ...lekhin mahila lekhikaon ki samasya yah hai ki pathak se lekar
     lekhak samudaay koi bhee rachna ke prati samyak deristi rakhta hi nahi ...
     wh mainstream ki rachna se bahar kr dee jati hain ... I dont know why 
    ...bt ya dohra bartaav pratyek star pr hai
  • Chandra Gurung DrKavita Vachaknavee कमजोर महिला लेखक कवि पर तो 
    शंका उठते ही हैं । अच्छे महिला लेखकको भी इस तरह के सजा भुगतने पड रहे हैं ।
  • Anirudh Umat m lekhan ko lekhan manta hu.
    mahila lekhan...purush lekhan...apripakwata ki bahas h. 
    meri mitr or varisth lekhak jyotsna milan ne apne intervew me saaf ye 
    kaha h. jald hi vh kathadesh me aa rahaa h. 
  • DrKavita Vachaknavee लेखन में वर्गवाद के केवल एक ही पक्ष के आलम पर भी 
    बात करें तो लेखिका होने के कई दंड व रूप और भी बहुत से हैं। जैसे प्रत्येक 
    रचना पर लोग अमूमन यही समझते हैं कि दैनंदिन जीवन में किसी घटना से सुखी 
    या दु:खी होकर यह लिखी गई होगी। मानो, स्त्री में अपने से उबर पाने की औकात ही कहाँ ?
  • Anirudh Umat kavitaji aapne behad saral lahje me gahri or buniyadi
     baat kahi h. ajab aalam h hindi me budhi ka...
  • Sarika Thakur abhe abhi mere inbox me ek sajjan ka sandesh aya ..
    mai vyaktigat anubhawon ka dastawej taiyaar kr rahi hun mujhe 
    kavta lekhan nahi krna chahiye
  • Sarika Thakur aap sahi kh rahi hai DrKavita Vachaknavee jee ...
  • DrKavita Vachaknavee Anirudh Umat जी, मुझे यह बुद्धि के अजीब आलम से अधिक 
    पितृ सत्तात्मक मानसिकता का आलम अधिक लगता है। 
  • DrKavita Vachaknavee Sarika Thakur जी, ऐसे अनेक महानुभावों के भद्दे, अश्लील, 
    अपमानजनक व घिनौने संदेश मेरे पास बहुतायत में हैं....। एक तो फरमाते हैं कि
     मैं पुरुषों की मानसिकता का विरोध करती हूँ, इसलिए सबकी घृणा की पात्र हूँ, घटिया हूँ। 
    आज ही एक महानुभाव ने 8 पैराग्राफ में गालियाँ देते हुए ईमेल लिखा है।
  • Anirudh Umat bilkul us se kaise inkar kiya ja sakta h.
    magr jo hitchintak ban bheeni bheeni baaten karte ve adhik .....hote h.
     hum aqsar unki bhinbhinaht me hi kho jate h...nirmam aanklan nahi kr pate.
     aanklan mitr or virodhi...dono ka nutral or nirmam hona chahiye. 
  • Samarth Shree चित्र और चरित्र एक ही व्यक्तित्व के परिचायक होते हैं,,
    विचित्र चित्त वालों को चित्र भा जाता है ,जबकि पवित्र चरित्र वालों को उत्तम चरित्र,
    ,काव्य कवि का चरित्र भी होता है और व्यक्तित्व भी,,,,,और स्पष्ट कहे तो व्यक्ति का
     आन्तरिक चित्र ही उसका चरित्र है,,,जाकी रही भावना जैसी...
  • DrKavita Vachaknavee एकदम सटीक बात। मीठी छुरी से वार करने
     वाले भोग्या से अधिक की दृष्टि नहीं रखते। Anirudh Umat जी
  • Anirudh Umat ji shukriya..aapne mujhe apne vichar apni
     post pr vyakt karne avsar diya. G.N.
  • Sarika Thakur Samarth Shree jee ...kavya kavi ka charitra bhee hai 
    vyaktitya bhee ....sahi kaha aapne ...lekin kaun pawitra aur kaun 
    apwitra yah kuan tai karai...aur swa ...anubhution se pare kaun hai ...
  • Samarth Shree पवित्र वह जिनका मानसिक चिन्तन शालीनता का अतिक्रमण 
    नहीं करता,,
  • Sarika Thakur DrKavita Vachaknavee jee ..hm pariwartan ke mahatwapurna
     prakriya ki mahatwapurna kadee hain ... sthitiyan niranatar 
    badalti rahi hain ...age bhee badlengi... ise rok pana kisi ke  bus me
     nahi ...kuchh log hain jo aisa krk sochte hain wh wkt ko ulti disha me 
    ghumane me qamyaab ho jayenge ...pr aisa nahi hoga ...
  • Samarth Shree मुगलों की सुतीक्ष्ण सशक्त सार्वत्रिक अधिसत्ता के समय भी

     यही लगता होगा कि परिवर्तन कैसे होगा पर हुआ,,तो नैराश्य क्यों,,,कभी 
    बीज रूप में कभी वृक्ष रूप में सबकुछ रहता है,,रहा है,,रहेगा भी,,यही सृष्टि का नियम है,,

  • Rakesh Yadav Ahir WHA WO !!!!!!!!!!!!!!! ,YOU ARE GREAT
  • Manoj Tiwari कविता जी सबका अपना-अपना नजरिया होता चीजो को देखने का,
    कभी-कभी आपकी (रचनाकार) रचनाओ मे पाठक ऐसे अर्थ निकाल लेते है 
    जिसकी कल्पना रचनाकार ने भी न की होती,ये कलाकार की पेन्टिग्स के साथ भी होता है
  • SP Sudhesh Kavita ki atmkatha shirshak Kavita Ab Kahan milegi.
    koi sutr bataiye .Purn kumbh men kuchh meri kavitayen bhi 
    chhapi thin .Is nayi Jankari ke liye dhanyvad .
  • DrKavita Vachaknavee SP Sudhesh जी, "पूर्णकुम्भ" के नाते हुआ यह परिचय सुखद है। 
    "कविता की आत्मकथा" या तो "पूर्णकुम्भ" का वह अंक जिनके पास होगा, 
    उनमें मिलेगी; अन्यथा मेरे पास तो है ही, कुछ आत्यंतिक मित्रों के पास भी होगी,
     जो कविता की आलोचना की पितृसत्तात्मक प्रविधि से वास्ता नहीं रखते व स्वस्थ 
    दृष्टि अपनाते हैं।
    9 hours ago · Edited · Like · 1
    • Rakesh Yadav Ahir PLEASE NET PAR ISE SHAYR KARE
      6 hours ago · Unlike · 1
    • Dhiraj Chauhan adhbhut hai ji sab kuch
      5 hours ago · Unlike · 1

    • DrKavita Vachaknavee Rakesh Yadav Ahir जी, नेट पर इसे 
      प्रकाशित कर दिया है। यहाँ देखें - 
      5 hours ago · Like · 1

      B
      के लिए आपका धन्यवाद मैं शीघ्र ही इस कविता को डॉ.जी नीरजा जी से 
      प्राप्त कर कविता की आत्मकथा की भीतरी परतो कीजानकारी प्राप्त करने 
      की कोशिश करूँगी.. और आपने सही कहा है कुछ लोगों की प्रवृति होती है 
      कि जहाँ कहीं स्त्री देखी बस उसके कार्य की चर्चा तो नहीं करेंगें बल्कि उसके 
      रूप-रंग को निहारने लगेंगें.. असल में ये समस्या हर स्त्री के साथ है...
      4 hours ago · Unlike · 1


      • DrKavita Vachaknavee अग्रिम धन्यवाद Balvinder Khan जी, आप लोगों के 
        लिए तो उस अंक को पाना अतीव सहज है.... भले ही "पूर्णकुम्भ" के पुराने
        अंकों को तलाश कर या Rishabha Deo जी के माध्यम से अलग से बड़े आकार 
        के चार पन्नों पर प्रकाशित प्रति। उस कविता पर एक लंबी समीक्षा उसके 
        पश्चात् श्री पूर्ण सहगल जी ने लिखी थी। संयोग से इतने वर्षों बाद 
        पूर्ण सहगल जी के समाचार श्री Banshilal Parmar जी के माध्यम 
        से गत दिनों ही मिले हैं।
        3 hours ago · Like
Related Posts with Thumbnails

Followers