Thursday, July 29, 2010

रोटी कब तक पेट बाँचती? : (डॉ.) कविता वाचक्नवी

रोटी कब तक पेट बाँचती? : (डॉ.) कविता वाचक्नवी 



रोटी कब तक पेट बाँचती?
 [ अपने कविता संकलन "मैं चल दूँ" (२००५) से  उद्धृत ]




सत्ता के संकेत कुटिल हैं
ध्वनियों का संसार विकट
विपदा ने घर देख लिए हैं
नींवों पर आपद आई
वंशी रोते-रोते सोई
पुस्तक लगे हथौड़ों-सी
उलझन के तख़्तों पर जैसे
पढ़े पहाड़े   -    कील ठुँकें,
दरवाजे बड़-बड़ करते हैं
सीढ़ी धड़-धड़ बजती है

रोटी अभी सवारी पर चढ़
धरती अंबर घूमेगी
दुविधाओं के हाथों में बल नहीं बचा
सुविधाएँ मनुहार-मनौवल भिजवाएँ।


रोटी कब तक पेट बाँचती?



***
Related Posts with Thumbnails

Followers